पीलिया के लक्षण, कारण, इलाज, दवा और उपचार – Jaundice (Piliya) Ke Karan, Lakshan, ilaj, Dawa Aur Upchar in Hindi



नमस्कार दोस्तों,
स्वागत  है आपका मेडिकल जानकारी में आज इस ब्लॉग में आपको जानकारी मिलेगी पीलिया रोग के बारे में जो लिवर का रोग है तो इस लेख में आपको आज सारी जानकारी जैसे –पीलिया क्या है, पीलिया क्यों होता है,पीलिया मे परहेज क्या रखे, क्या खाये क्या न खाये ,और कुछ दवाई जो आप पीलिया रोग में ले सकते है जानकारी दूंगा तो बने रहे हमारे ब्लोग्स  में आये है पीलिया रोग के बारे में –

jaundic ki jankari hindi mein



पीलिया क्या होता है -What is jaundice-

पीलिया एक आम लिवर रोग हैं, जोकि कई असामान्य चिकित्सा कारणों की वजह से से हो सकते हैं और पीलिया रक्त में बिलिरुबिन की मात्रा बढ़ने से त्वचा का पीला होना होने पर होता है या कई तो जब लिवर कमजोर हो जाते है पीलिया होने पर किसी व्यक्ति को सिर दर्द, लो-ग्रेड बुखार, मतली और उल्टी, भूख कम लगना, त्वचा में खुजली और थकान आदि लक्षण होते हैं। त्वचा और आंखों का सफेद भाग पीला पड़ जाता है। इसमें मल पीला और मूत्र गाड़ा हो जाता है। पीलिया तब होता है जब यकृत लाल रक्त कोशिकाओं को कुशलता के साथ संसाधित नहीं कर पाता है !

Causes of jaundice




पीलिया होने के कारण-Causes of jaundice-

बिलीरुबीन पीले रंग का पदार्थ होता है। ये रक्त कोशिकाओं में पाया जाता है। जब ये कोशिकाएं मृत हो जाती हैं तो लिवर इनको रक्त से फिल्टर कर देता है। जब लिवर में कुछ दिक्कत होने के चलते यह प्रक्रिया ठीक से नहीं हो पाती तो बिलीरुबीन बढ़ने लगता है। इसी के चलते त्वचा पीली नजर आने लगती है। लिवर में गड़बड़ी के कारण, बिलीरुबिन शरीर से बाहर नहीं निकलता है,और इससे पीलिया हो जाता है। नीचे दिए जा रहे कारण से भी पीलिया हो सकता हैः-
  • रक्त में बिलिरुबिन की मात्रा बढ़ने से स्किन रंग पीला होता है (Increased amount of bilirubin in blood)
  • यकृत संबंधी स्थिति /रोग (Hepatic condition / disease)
  • खून में बिल्लोरोबिन की मात्रा ज्यादा होना (Excess of bilorobin in blood)
  • लिवर में इन्फेक्शन या कमजोर होना (Liver infection or weakness)
  • पित्त पथरी होना (Gallstones)
  • लिवर में ट्यूमर होना (Liver tumor)
  • गन्दा खाना या पानी का ज्यादा सेवन से (Messy food)
  • कही प्रकार की दवाई सेवन से (From some kind of medicine)
  • शराब या ज्यादा नशा करना से (Alcohol or excessive intoxication)
  • बाइल डक्ट बंद होने से (Bile duct closure)
  • hemolytic anemia जिससे की बिरोबिन की मात्रा बढ़ जाती है (hemolytic anemia that increases the amount of birobin)

पीलिया होने के लक्षण -Symptoms of jaundice-

  • त्वचा,नाखून,और आँखों का पीला होना (Yellowing of skin, nails, and eyes)
  • मितली,उल्टी,सुस्ती,पेट दर्द,भूख न लगना,आदि (Nausea, vomiting, lethargy, abdominal pain, loss of appetite, etc.)
  • कुछ भी खाने के बाद तुरंत लेटरिंग होना (Being potty immediately after eating anything)
  • खाना खाते ही उलटी मितली होना (Vomiting when eating)
  • वजन का कम होना (Loss of weight)
  • कब्ज,बुखार,कमजोरी होना (Constipation, fever, weakness)
  • पेशाब पीला होना (Pee yellow)
  • खुजली और शरीर सुस्त होना (Itching and sluggish body)


piliya rog mein kya khaye


पीलिया में क्या,खाये ?-What is there in jaundice, what should not be eaten

दवाई से ज्यादा पीलिया में  आपका खाना पीना परहेज ज्यादा जरुरी है क्युकी पीलिया में ज्यादा दवाई का सेवन नहीं किया जा सकता है आये जानते है क्या परहेज और क्या करे –
  • जितना ज्यादा हो सके खाना हल्का खाये जिसे आपका लिवर पचा सके (Eat as much food as possible so that your liver can digest)
  • खाना फैट फ्री,और प्रोटीन ज्यादा हों (Eat fat free, and have more protein)
  • गने का जूस का सेवन (Intake of sugarcane juice)
  • छाछ  ज्यादा से ज्यादा उपयोग  करे (Use buttermilk as much as possible)
  • ग्लूकोज़ ज्यादा मात्रा में ले और अगर मरीज मुँह से नहीं ले प् रहा हो तो डॉक्टर से मिले इसमें आप मेडिकल फुलुडस लगा सकता है (Take more glucose)
  • मूली का जूस या सब्जी का सेवन करे (Eat radish juice or vegetable
  • पानी का ज्यादा से ज्यादा सेवन करे (Drink more water)
  • दही,छाछ का सेवन करे (Eat yogurt, buttermilk)
  • नारियल पानी,गिलोय जूस,पपीता आदि का सेवन करे (Eat coconut water, Giloy juice, papaya etc.)
  • टमाटर का रस,नारंगी  का जूस सेवन करे (Eat tomato juice, orange juice)

What should be avoided in jaundice


 पीलिया में परहेज क्या रखे ?-What should be avoided in jaundice-

  • जंक फ़ूड न खाये ( चाउमीन,मोमो,रोले आदि )Do not eat junk food (Chowmin, Momo, Rowley etc.)
  • बहार का खाना न खाये (Do not eat spring food)
  • तेज़ मसाले,लाल मिर्च,गरम मसाले,हल्दी आदि का सेवन न करे (Do not consume strong spices, red chillies, hot spices, turmeric etc.)
  • ज्यादा दवाई सेवन न करे अगर दवाई का उपयोग करना है तो डॉक्टर से जानकारी ले !(Do not use too much medicine, if you want to use the medicine, then get information from the doctor.)
  • ज्यादा भरी दाल,बिन्स का सेवन न करे हलकी दाल ले जिसे लिवर पचा सके (Do not consume too much lentils, bin, take light lentils, which can digest liver)
  • शराब लिवर के लिए बहुत हानिकारक होता है। इसके सेवन से लिवर पर बुरा असर पड़ता है (Alcohol is very harmful for the liver. Its consumption affects the liver
  • अंडे,मीट,मछली का सेवन न करे (Do not consume eggs, meat, fish)
  • नमक,चाय,कोफ़ी का सेवन न करे (Do not consume salt, tea, coffee)
वीडियो देखे –

पीलिया में चिकित्सा उपचार-Medical treatment in jaundice-

पीलिया में जायदा दवाई का सेवन नहीं किया  है इस रोग में आपको परहेज ही ज्यादा रखना चाइये जो ऊपर बताये गए है ये कुछ सामान्य दवाई है  लिवर के लिए दिया जाता है ! 
  • सिरप -लिव 52 
  • iv fuilds ज्यादा यूज़ किया जाता है 
  • गैस उलटी के लिए -pantaprazole Dsr,rab Dsr 


Disclaimer: मेरे सभी ब्लॉग केवल सूचना के उद्देश्य से हैं। इस ब्लॉग से जुड़ी किसी भी जानकारी को किसी डॉक्टर द्वारा सुझाए गए नुस्खे, या किसी भी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर के विकल्प के रूप में नहीं माना जाना चाहिए। दर्शकों को इन सूचनाओं का उपयोग अपने जोखिम पर करने के लिए किया जाता है। और अगर आपको कोई नुक्सान,दुष्प्र्भाव,होते है तो ये आपकी जिम्मेदारी होगी हम किसी दवाई को लेने के नहीं बोलते है ये जानकारी आपकी नॉलेज बढ़ाने के लिए दी जाती है धन्यवाद !!!

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Medical Jankari
%d bloggers like this: